संग बसंती अंग बसंती रंग बसंती

संग बसंती अंग बसंती रंग बसंती छा गया
मस्ताना मौसम आ गया
संग बसंती अंग …

धरती का है आँचल पीला झूमे अम्बर नीला\-नीला
सब रंगों में है रंगीला रंग बसंती
संग बसंती अंग …

लहराए ये तेरा आँचल सावन के झूलों जैसा
दिल मेरा ले गया है ये तेरा रूप गोरी सरसों के फूलों जैसा
ओ लहराए तेरा आँचल सावन के झूलों जैसा
दिल मेरा ले गया …

जब देखूँ जी चाहे मेरा नाम बसंती रख दूँ तेरा
छोड़ो-छेड़ो ना
हो हो
तेरी बातें राम दुहाई मनवा लूटा नींद चुराई
सैंया तेरी प्रीत से आई तंग बसंती
संग बसंती अंग …
मस्ताना मौसम आ गया

हो सुन लो देशवासियों
हो सुन लो देशवासियों
आज से इस देश में
छोटा-बड़ा कोई न होगा सारे एक समान होंगे
सुन लो देशवासियों
कोई न होगा भूखा-प्यासा पूरी होगी सबकी आशा
हम हैं राजा

तुम हो कौन नगर के राजे छोटा मुँह बड़ी बात न साजे
झूमो नाचो गाओ बाजे संग बसंती
संग बसंती अंग …

Leave a Reply