रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना

रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना
भूल कोई हमसे ना हो जाये

रात नशीली मस्त समा है
आज नशे में सारा जहाँ हैं
रात नशीली मस्त समा है
आज नशे में सारा जहाँ हैं
आये शराबी मौसम बहकाये – ए – ए – ए …
रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना
भूल कोई हमसे ना हो जाये

आँखों से आँखें मिलती हैं जैसे
बेचैन होके तूफ़ाँ में जैसे
आँखों से आँखें मिलती हैं जैसे
बेचैन होके तूफ़ाँ में जैसे
मौज कोई साहिल से टकराये – ए – ए – ए …
रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना
भूल कोई हमसे ना हो जाये

रोक रहा है हमको ज़माना
दूर ही रहना पास ना आना
रोक रहा है हमको ज़माना
दूर ही रहना पास ना आना
कैसे मगर कोई दिल को समझाये – ए – ए – ए …
रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना
भूल कोई हमसे ना हो जाये

Leave a Reply