ये लाल रंग कब मुझे छोड़ेगा

ये लाल रँग कब मुझे छोड़ेगा
मेरा ग़म, कब तलक़, मेरा दिल तोड़ेगा
ये लाल रँग …

किसी का भी लिया नाम तो, आई याद, तू ही तू
ये तो प्याला शराब का, बन गया, ये लहू
ये लाल रँग …

पीने कि क़सम डाल दी, पीयूँगा किस तरह
ये ना सोचा तूने यार मैं, जीयूँगा किस तरह
ये लाल रँग …

चला जाऊँ कहीं छोड़ कर, मैं तेरा ये शहर
यहाँ तो ना अमृत मिले, पीने को, ना ज़हर
हाय, ये लाल रँग …

Leave a Reply