मैं ससुराल नहीं जाऊँगी

मैं ससुराल नहीं जाऊंगी
मैं ससुराल नहीं जाऊंगी
डोली रख दो कहारों
साल दो साल नहीं जाऊंगी
साल दो साल नहीं जाऊंगी
मैं ससुराल नहीं …

पहला सन्देसा ससुर जी का आया
अच्छा बहाना यह मैने बनाया
बुड्ढे ससुर के संग नहीं जाऊंगी
मैं ससुराल नहीं …

दूजा सन्देसा सासू जी का आया
बुढ़िया ने हाय राम कितना सताया
उस बुढ़िया को मैं अब सताऊंगी
मैं ससुराल नहीं …

तीजा सन्देसा नन्दनिया आ आया
जिसने इशारों में मुझको नचाया
उसे घुंघरू मैं अब पहनाऊंगी
मैं ससुराल नहीं …

चौथा सन्देसा ननदोई का आया
मैं चल पड़ी थी मगर याद आया
इतनी जळी मैं कैसे मान जाऊंगी
मैं ससुराल नहीं …

पांचवा संदेसा पिया जी का आया
कोई बहाना न फिर याद आया
नंगे पांव मैं दौड़ी चली जाऊंगी
मैके वापस मैं लौटकर न आऊंगी
सैंया जी से लिपट मैं जाऊंगी
हूँ सूनी सेज सजरिया सजाऊंगी
बन के बिस्तर मैं हाय बिछ जाऊंगी
मैं ससुराल नहीं ..

Leave a Reply