मेरे सपनों की रानी कब आएगी तू

मेरे सपनों की रानी कब आएगी तू
आई रुत मस्तानी कब आएगी तू
बीती जाए ज़िंदगानी कब आएगी तू
चली आ, आ तू चली आ …

फूल सी खिल के, पास आ दिल के
दूर से मिल के, चैन ना आए
और कब तक मुझे तड़पाएगी तू
मेरे सपनों की रानी कब आएगी तू …

प्यार की कलियाँ, बागों की गलियाँ
सब रंगरलियाँ, पूछ रहीं हैं
गीत पनघट पे किस दिन गाएगी तू
मेरे सपनों की रानी कब आएगी तू …

क्या है भरोसा, आशिक़ दिल का
और किसी पे, ये आ जाए
आ गया तो बहुत पछताएगी तू
मेरे सपनों की रानी कब आएगी तू
आई रुत मस्तानी कब आएगी तू
बीती जाए ज़िंदगानी कब आरगी तू
चली आ, आ तू चली आ …

Leave a Reply