मार गई मुझे तेरी जुदाई

किशोर:
मार गई मुझे तेरी जुदाई डस गई ये तन्हाई
तेरी याद आई फिर आँखों में नींद नहीं आई

आशा:
मार गई मुझे …
लाज का घूँघट चुप के ताले
मैने आख़िर तोड़ ही डाले
होती है तो हो ही जाए अब दुनिया में रुसवाई

किशोर:
मार गई मुझे …
फिर न कहीं ये ग़म मिल जाएँ
आज ही क्यों ना हम मिल जाएँ
क्या साथी क्या बाराती क्या डोली क्या शहनाई

आशा:
मार गई मुझे …
हर मुश्क़िल आसाँ हो जाती
पहले गर ये हाँ हो जाती

दोनों:
हमने हाँ करने में तौबा कितनी देर लगाई
मार गई मुझे …

Leave a Reply