माँ ने कहा

माँ ने कहा मुझसे सदा
तू फूल मेरा मेरा चाँद है
ना चाँद ना फूल हूँ
रस्ते की मैं धूल हूँ

माँ ने कहा छाए घटा
तो बरसे पानी ये पानी मगर
आँखों में क्यूँ आ गया
बादल कहाँ छा गया

कितनी बड़ी है ये दुनिया मैं कितना अकेला
बिल्कुल अकेला मैं टूटे खिलौनों से खेला
ये कैसा जीवन मिला मुझको ख़ैरात में

Leave a Reply