खुदाया मैं तेरा हो ना सका

दिल की लगी तो लगी हैं मगर
नजदिक तेरे आ ना सका
खुद ही को अभी तक बुझा ना सका
खुदाया मैं तेरा हो ना सका
तूने दामन मेरा ना छोडा अभी
तू ही आ मन मेरे घर आंगन अभी
कल की लगी तो नही हैं मगर
पल की लगी मैं हो ना सका
खुद ही को अभी तक बुझा ना सका
खुदाया मैं तेरा हो ना सका

Leave a Reply