गर साज़ छेडो, तराना जीवन है

मंजर है ये, मुहब्बत का प्यारे
हरदम ना तु अपने, आँसु बहा रे
सोहबत सयानो में, जिंदा दिलदारों में
दिल के झरोके से, सपनो की राहो में
गर साज़ छेडो, तराना जीवन है

दिल में शरीक तेरे, दिलबर करीब तेरे
तु मन का मीत तेरे, दुश्मन गरीब तेरे
वादो हीं वादो में, दिन हो या रातो में
दिल के झरोके से, सपनो की राहो में
गर साज़ छेडो, तराना जीवन है

रंग तेरे रीत तेरी, संग तेरे प्रीत तेरी
अंग तेरे नीत तेरी, जंग तेरी जीत तेरी
यादो हीं यादो में, नम हो या बातो में
दिल के झरोके से; सपनो की राहो में
गर साज़ छेडो, तराना जीवन है