कुर्बानी

छाया है जुनून मन में कुछ करने की ठानी रे,
मेरे प्यारे देश कुर्बान तुझ पे जवानी रे,
देनी तो होगी हमको ये कुर्बानी रे,
मेरे प्यारे देश तुझपे कुर्बान जवानी रे।१।

देश बढ़ेगा कैसे किसने ये जानी,
ऊंचा चढ़ेगा कैसे किसने ये जानी,
कैसे तो बदलेगी ये भारत की कहानी रे,
देनी तो होगी हमको ये कुर्बानी रे,
देश मेरे कुर्बान तुझ पे जवानी रे।२।

जौंक चौतरफा लागी, चूंटने लगी है,
बेईमान सत्ता देखो, लूटने लगी है,
भारती बचेगी कैसे, जाग तू जवानी रे,
देश मेरे कुर्बान तुझ पे जवानी रे।३।

चारों तरफ भाय का मंजर है देखो,
खून सने हाथों में खंजर है देखो,
चोटिल है भारत माता, इसको बचानी रे,
देश मेरे कुर्बान तुझ पे जवानी रे,
देनी होगी हमको तो ये कुर्बानी रे।४।

हौसला तो कर लो मन में देश हित जागो,
जिम्मेदारियों से तुम तो अब ना यूं भागो,
भ्रष्टाचार का दानव देखो चहुं और फैला,
कर दिया जिसने वातावरण विषैला,
बेईमानी आज हम सब पर है भारी रे,
देश मेरे कुर्बान तुझ पे जवानी रे।५।

चोर लुटेरों ने डाला दिल्ली में डेरा,
कई एक ठगों ने देखो सत्ता को घेरा,
सत्ता की चाबी अब तो सच को थमानी रे,
देश मेरे देनी होगी हमे कुर्बानी रे,
मेरे प्यारे देश कुर्बान तुझ पे जवानी रे।६।

समझनी पड़ेगी हमको ज़िम्मेदारी,
देश का है हम पर देखो कर्जा भारी,
कर्जा चूकेगा देके अपनी जवानी रे,
मेरे प्यारे देश कुर्बान तुझ पे जवानी रे।७।

उठो जागो सोचो मत देश के जवानो,
अपनी भुजाओं का बल तुम पहचानो,
बेड़ियाँ ये सारी तोड़ो, तोड़ो गुलामी रे,
देश हित देनी होगी हमे कुर्बानी रे,
मेरे प्यारे देश कुर्बान तुझ पे जवानी रे।८।

सोने की चिड़िया फिर ये देश बनेगा,
आगे बढ़ेगा फिर से ऊंचा चढ़ेगा,
नीव का जो पत्थर होगी, धन्य वो जवानी रे,
देनी तो होगी हमको ये ज़िंदगानी रे,
मेरे प्यारे देश कुर्बान तुझ पे जवानी रे।९।

मनोज चारण
मो. 9414582964