‘बलात्कार मिटाओ-मीडिया बचाओ आह्वान विश्व का आह्वान!

आह्वान!’आह्वान!बलात्कार मिटाओ-मीडिया बचाओ आह्वान विश्व का हो|’
कदम बढ़े बढ़े मचल मचल,सीना तानो तानो संभल सम्हल। शीष ना कटने बटने ना देना,मीडिया कर्मी का विगुल मृदुल॥ ‘मंगल’मन मानो नत मानो,ब्यभिचार बलात्कार मिटादेना। मित्र-मित्र की बात पहिचानो,हम सुस्थित और प्रतिष्ठा जानो॥ ક્ષેत्र का स्वामी हैं शंभु हमारे, प्रति पल राम विश्व के रखवाले। पवित्रात्माओं सत्कर्म बखानों,हे मानव मानव कर्मधर्म को जानो॥ राष्ट्रीय संकट समाप्त हो जिससे,इस पृथ्वी पर यशस्वी हों मानो। इ! शक्तिशाली उर्ज्वस्वी पृथ्वी,माँ! तू कन्या सा तेज हमे दो॥ आओ मिल-जुल विश्व को अपने,अपने गौरव से वह मान दिलादें। जिससे मातृ भूमि में मानव विश्वबन्धुत्व प्रेम और सद्भाव जगादे॥ हे! सुहृद सुन्दर धरणी- धरती के प्राणी आह्वान है विश्व पटल पर। जाओ-जाओ-गाओ–सुनाओ गीत,मिटे ना’मंगल’का संदेशसुना दो॥आह्वान!

Leave a Reply