विज्ञान और कम्प्यूटरों की तीव्रता

विज्ञान और कम्प्यूटरों की तीव्रता
एक्स रे मशीन की तरह,
पेवस्त कर दीजिए मानव में
चेहरा हसीन की तरह,
कहाँ से कहाँ तक पहुँच गया
मानव का मन तो देखिए,
और दिल अटका पड़ा है
ताज-ओ-शहंशाह की तरह।

Leave a Reply