हमारे ऐतबार की हद ना पूछ ग़ालिब

हमारे ऐतबार की हद ना पूछ ग़ालिब;
उसने दिन को रात कहा और हमने पैग बना लिया।

Leave a Reply