वोट की कीमत

चुनाब के आते ही जैसे सरगर्मी छा जाती है |
एक वोट की खातिर फिर दौड़ लगाई जाती है ||

अपनी टोली लेकर नेता सुबह सुबह निकल जाते है |
हाथ जोड़ते , पाव छुते फिर यह नजर आते है ||

गरीब बच्चो को भी अपनी गोद में उठाते है |
प्यार की झप्पी देते अपनी फोटो खिचवाते है ||

लम्बे चौड़े वादे करते स्वर्ग की दुनिया दिखाते है |
बीच बीच में दूसरी पार्टी पर दोष लगाते जाते है ||

गरीब के साथ बैठकर झोपड़ी में खाना खाते है |
अगले दिन अख़बार में यह खबर छपवाते है ||

नए नए लालच देकर जनता खींची जाती है |
एक वोट की खातिर फिर दौड़ लगाई जाती है ||

पोलिंग बूथ पर आने को गाड़ी लगवाई जाती है |
आज के दिन नेता जी को सब की याद आती है ||

जनता की सेवा के लिए पैसा उसे जब मिल जाता है |
गरीब को भूलकर वो अपनी तिजोरी भरता जाता है ||

दोष लगाते है सब नेता को पर गलती है ये हमारी |
हम यदि ना चुने ऐसा नेता तो होगी ना गत ये हमारी ||

तभी तो कहते है भैया अपने वोट की कीमत जानो |
वोट देने से पहले अपना सही नेता पहचानो ||

हमारे सही वोट से भ्रष्ट नेता नहीं आ पायेगा |
तभी समाज के साथ देश का विकास हो पायेगा ||

Leave a Reply