मुझे उड़ान भर लेने तो दे

जहाँ को छू लुंगी
मुझे उड़ान भर लेने तो दे
छोटा पड़ जाएगा आसमान भी
बाबुल मेरे सपनों को पंख लग जाने तो दे
नहीं कोई गम होगा
खुशियों को मेरी सिमट आने तो दे
उदासी तुम्हारी बिखर जाएगी
मेरी आँखों को नम हो जाने तो दे
न कोई बंधन हो
न कोई लक्षमन रेखा
बस मुझे आज की सीता हो जाने तो दे
संभल कर चलना जो सिखाया तूने
कदम- कदम पर हाथ पकड़ कर
चलाया तूने
मुझे भी अपना सहारा बन जाने तो दे
चल सकूँ में दूर तक
तूने देर तक बाहँ थामे रखी
क्षितिज के उस पार से तेरी खुशियाँ
मुझे अब लाने तो दे ………………..
मत धो मेरे सपनो का बोझ तू
मुझे भी तो तेरे सपनों का सारथी
बन जाने तो दे …………………. १
(बेटी दिवस पर लिखी …….मेरी बेटी नैना ,एन्ना को समर्पित )

Leave a Reply