कोशिस करने वालो की हार नहीं होती

कोशिस करने वालों की कभी हार नहीं होती,
घर से भाग निकले उनकी कोशिस कभी प्यार नहीं होती,
करे भले ही शादी, पर शादी वो खुशग्वार नहीं होती,
गृहस्थी तो बस जाती है, पर वो घर-बार नहीं होती,
लानत होती है ऐसी संताने,ये माँ-बाप के गले का हार नहीं होती,
कोशिस करने वालों की कभी हार नहीं होती।।

बेटी घर की इज्जत है, यही रौनक घर की है,
घर के आँगन की तुलसी है, मूरत मन-मंदर की है,
खिलती लता-सी घर महकाती, रस-धार सदा अंदर की है,
मत मारो बेटी को लोगों, बेटी कोई खर-पतवार नहीं होती,
कोशिस करने वालों की कभी हार नहीं होती।।

गौमाता कहलाती गैया, जिसके सेवक कृष्ण-कन्हैया,
पंचगव्य अमृत सरीखे, धेनु चराते दाऊ भैया,
गाय गौरव भारत भू का, जान देके बचाते गैया,
आज कटती ये बूचड़खाने में,
धेनु धन धरती का है ये भार नहीं होती,
इसे बचाओ भारतवालों, गाय कभी आहार नहीं होती,
कोशिस करने वालों की कभी हार नहीं होती।।

मनोज चारण
मो. 9414582964

Leave a Reply