सुबह

खिले हुए उङहूल के फूलों पर
इसी आसमान के नीचे
ठहरे हुए हैं ओस के कतरे
ये तुम्हें नहीं दिखेंगे
जूतों में ठहरे
श्रम के घंटे
जहां पाँव उतरा है
खदानों से पहले ।
सीली हुई किवाङों में
जैसे उतरे हैं
कुकुरमुत्ते ।
रात के बाद रक्तिम
हुआ है क्षितिज
तुम्हारी आँख खुलने से
बहुत पहले
जलकुम्भियों में हरियाली
का उत्सव है ।
हमारे घर सोने के लिए
ही नहीं
तुम्हारी मर्जी के खिलाफ
उन्हें हमने प्यार के लिए
भी इस्तेमाल किया
सिलवटें ठीक करने के बाद
हमने बखिये की तरह
उधेङी हैं दीवारें ।
जब हम उतरने वाले हैं
खदान के अँधेरे में
एक मैदान खुला होगा वहाँ
कोलाहल के काले पंखों
और छोटे सिर वाले परिन्दे
ढूँढने आए होंगे आबोदाना
पीले-पीले घासों में
रोज से अधिक डरे हुए
मनुष्य जैसे
सुबह सबसे पहले
वहीं उगाता है सूरज
धूएँ की पतली लकीरों में ।

One Response

  1. banty kumar 25/01/2016

Leave a Reply