गमलों में उगने वाले लोग

गमलों में उगने वाले लोग
बरगद की बातें करते हैं
जो कभी हमारी बातें करते थे
आज जमाने भर की बातें करते हैं
कभी दिलों में रहने वाले …
आज आशियाने की बाते करते हैं
कभी ऊंचा उड़ने बाले
आज आसमान में ठिकाने की बातें करते हैं
बेगाने हुए जो बर्षों से
वो मेरे अपने होने की बातें करतें हैं
खिलौनों के लिए रोने वाले
कैसे चाँद की बातें करते हैं
छोड़ गए थे जो सरे राह
ना जाने कैसे मिलन की बातें करते हैं
सूखे से इस सावन में
“बंधू” कैसे हम सैलाब की बातें करते हैं ……………..

See More