खिड़की खुली जरा

खिड़की खुली ज़रा ज़रा परदा सरक गया
कमरा था दिल का खाली कोई चुपके से आ गया
तो हंगामा हो गया
खिड़की खुली ज़रा …

जब होश उड़े तो मैं होश में आया
खामोश खड़ा था मैं जोश में आया
ऐसी चली हवा ऐसी चली हवा ये शोला भड़क गया
कमरा था दिल का …

ये मुखड़ा कितना नमकीन है यारों
ओ कोई फोटो खींचो क्या सीन है यारों
तौबा गज़ब हुआ ओ बाबा गज़ब हुआ
दम मेरा अटक गया
कमरा था दिल का …

Leave a Reply