मत बनो ज्वालामुखी

मत बनो ज्वालामुखी, लावा न उगलो शान से
बन हिमालय-सा अडिग गंगा बहावो शान से।

मत कहो आकाश से कुहरा घना करता चले
हर सुबह सूरज हमारा ऊगने दो शान से।

मत गिनो दरख्त जो ठूँठ से अकड़े खड़े हैं
इक हरा दिखे परिंदों उसको सजावो शान से।

मत चुनो अल्फाज जो शर्मसार सबको करें
बोल जो प्यारे लगें, उन्हीं को बोलो शान से।

मत बनो गूँगे इस बहरे जगत के सामने
यह वक्त की आवाज है गूँजने दो शान से।

Leave a Reply