आजा तुझको पुकारे मेरे गीत रे

आ जा तुझको पुकारें मेरे गीत रे, मेरे गीत रे
ओ मेरे मितवा, मेरे मीत रे, आजा …

नाम न जानूँ तेरा देश न जानूँ
कैसे मैं भेजूँ सन्देश न जानूँ
ये फूलों की ये झूलों की, रुत न जाये बीत रे
आजा तुझको …

तरसेगी कब तक प्यासी नज़रिया
बरसेगी कब मेरे आँगन बदरिया
तोड़ के आजा छोड़ के आजा, दुनिया की हर रीत रे
आजा तुझको …

Leave a Reply