एहसान कर दिया

***
उसने सच का बखान कर दिया
आज हमें बेजुबान कर दिया
***
संयम में रहना सीखा मगर
तुमने बेईमान कर दिया
***
मैंने जोड़ा था घर प्यार से
उसे ईट का मकान कर दिया
***
क्यों राज को राज रख न सके
सब खोलकर हैरान कर दिया
***
यकीन था खुद पे हमको मगर
तुमने साबित नादान कर दिया
***
दो रोटियां वो बना के ‘रजत’
क्यों समझे एहसान कर दिया
_____________________
गुरचरन मेहता ‘रजत’

Leave a Reply