मैं कहूँ पर किसलिए

1-
मैं कहूँ पर किसलिए
सुनता न कोई हो,
दर्द-ओ-दवा का रहा
रिश्ता हकीम से।

2-
मेरी हर एक बात को
नापते हो क्यों,
शब्दों का तुम्हारे बोझ मैं
कब से लिए खड़ी?

3-
मिलकर बना लो बात गर
तब भला क्या रंज,
दुश्मनी की बंदूक से
बारूद ही बरसे?

4-
उम्र तो बीती मगर
दहशते-अंजाम भी,
शाम तलक ख़त पे मेरे
था खन्जरे-कोहराम।

5-
लगने लगी अब कहाँ
हमको कोई नजर,
आशिकोँ की बस्तियां ओ
इत्र से स्नान।

6-
निकला नहीं जो कदम
दहलीज से बाहर,
वो लिखेगा क्या भला
जन्नत की किताब?

7-
तकाज़ा कुछ भी नहीं लेकिन
फिर भी न जाने क्यों,
मुस्कुराकर बात करना
चाहता है दिल।

8-
लगाऊं किस तरह दिल को
नहीं दिल दूसरा कोई,
सुलगकर आग हो जाए
झुलसकर खाक हो जाए।

9-
बनकर मुसाहिब सोचता हूँ
क्या भला आखिर,
बेज़ा मेरी जिन्दगी या
खयाल बेवफ़ा।

10-
महफिल मेरी वीरान क्यों
देखा उठी नजर,
मौजूद सारी हस्तियाँ
महबूब बेबरसात।

11-
हाय री किस्मत कि
शहर शराबियों का,
बेबसी पर ठुनकता है
बेवफ़ाओं की तरह।

12-
लगी हो आग तो
तपा लें जिगर हम भी,
बुझी को दिखाना आईना
कहाँ तलक अच्छा?

fb.com/lekhakmukeshsharmapoet/9910198419

One Response

  1. manoj charan manoj charan 25/08/2014

Leave a Reply