जीने का अधिकार

मत मारो मुझे
बताओ क्या है कसूर मेरा
मैं हूँ अपनी माँ का प्यार
दे दो मुझको केवल जीने का अधिकार

नहीं चाहिए धन-दौलत
नहीं चाहिए सैर-सपाटे
नहीं चाहिए घोड़ा-गाड़ी
दे दो मुझको केवल जीने का अधिकार

पिता का सहारा बनूँ मैं
अपने साथियों की शान बनूँ मैं
अपने देश का अभिमान बनूँ मैं
दे दो मुझको केवल जीने का अधिकार

न बनूँ मैं दुर्गा सिंहवाहिनी
न बनूँ मैं संपन्न स्वामिनी
न हो नफरत भरा ससार
दे दो मुझको केवल जीने का अधिकार

न हो भूखे भेड़ियों की दुनिया
न मैं बनूँ किसी की हवस का शिकार
कर रही बस इतनी सी गुहार
दे दो मुझको केवल जीने का अधिकार।

संतोष गुलाटी
मोबाईल: 982 028 1021

Leave a Reply