अकेलापन -विनय भारत

वो कहते हैं अकेले हैं

वो क्या जाने अकेलापन

हमारे साथ नही कोई

उनके साथ हम तो है

कवि विनय भारत