चलो चलते हैं सजन -कवि विनय भारत

चलो चलते हैं

साजन

नदियों पार

लेकिन

एक खतरा हैं

नदियों पार

समुद्र है …

कवि विनय भारत