सच का संधान

इस सच का सामना करके
अचानक अधेड़ हो गए हैं
मैं और मेरी पत्नी
केवल किस्सा नहीं था
पल में बालों का रंग बदल जाना
निमिष में
कली का फूल बन कर झड़ जाना

समुद्र की दहलीज लाँघते ही
व्यस्क हो गये बच्चे
कोरी कल्पना नहीं है
किसी का भविष्य में चले जाना
वर्तमान को दफ़्ना
इतर लोकों में खो जाना
शायद ही लौटकर आए
वह भोलापन
विश्वासों का हरा भरा आंगन
सीधी सरल रेखा में
विकसती बौद्धिकता
चिड़िया की आंख सा
सच का संधान

Leave a Reply