रिश्ता- ए -दोस्ती =कवि विनय भारत

ये दोस्ती नही आसां

बस इतना समझ लीजिये

एक
प्यारका रिश्ता हैं
और निभाते जाना हैं

कवि विनय भारत