श्री गणेशाय नमः- भक्त भारत

करूँ प्रणाम मैं रणत भँवर को

सुनते हैं जो सबकी पुकार

एकदंत मोदक प्रिय मूषक वाहन

करें कल्याण

कवि भारत