करके मुलाकात जो

1-,
करके मुलाकात जो
निकला कोई आशिक,
कहने लगा कि कर यकीं
जन्नत से आ रहे हैं।

2-ना ना करते रहे
हमसे वो सारी रात,
आशिकी से जब उन्हें
देखा तो बोले हाँ।

3-
दस्तखत करके कहा
लिखिए कोई ताबीर,
लेकिन मेरे विश्वास का
उम्दा खयाल हो।

4-
जिस दिन छपी मेरी खबर
उसको न कोई होश,
हर गली कहती फिरे
ये मेरा शौहर।

5-
कराहना तुझको लगे
या कि रिश्ता दर्द,
ये जुर्म औरत पर हुआ
इतनी सनद रहे।

6-
तकाज़ा वक्त का ऐसा कि
रुपया आदमी को,
बेबस हुआ देखता है
किस तरह देखो।

7-
सलामी गर मुकर्रर है
सिपाही होकर खड़ा लेले,
बेवजह रंगे-हिना हम
क्यूंकर बदल देवें?

8-
फर्ज जिसने रखा हो
जिन्दगी के तार से ऊपर,
हकीकत उसकी होती है
बयां उसका नहीं होता।

9-
नहीं गर तू अगर शैतां
तो है क्या बता मुझको,
हुआ ये खेल खन्जर का कि
कैसे मेरी गर्दन पर?

10-
चला जो लेकर सलामी
फिर कभी न आने को,
दिलों से गुजरता नहीं
ऐसे शहीद का कारवाँ लेकिन।
(अंतिम चार शे’र बाटला हाउस एनकाउंटर में शहीद जाँबाज इंस्पेक्टर मोहनचंद शर्मा की बहादुरी पर उनके लिए लिखी थीं।)

Leave a Reply