जय शिव !

जय-जय-जय शिव शंकर शम्भो,
जय-जय-जय भोलेनाथ प्रभो,
हर-हर गौरीनाथ प्रभो,
कर-कर कस्टो का नाश प्रभो,
भर-भर भक्तों के भंडार प्रभो,
तुम ही सारों का सार प्रभो,
जानन-हारों का ज्ञान प्रभो,
जोगी ध्यानी का ध्यान प्रभो,
मानी अभिमानी का मान प्रभो,
तुम ही प्राणों के प्राण प्रभो,
करते हो भक्तों का त्राण प्रभो,
जप करता तेरा दास प्रभो,
सुन पुत्र की अरदास प्रभो,
चारण चरण की शरण प्रभो,
कर दो अब तो कल्याण प्रभो,
जय-जय-जय भोलेनाथ प्रभो।।

मनोज चारण
मो. 9414582964

Leave a Reply