घर की याद

सर्द हवा में ठिठुरी
काफी की आखिरी बूंद
गले में उतार
सड़क किनारे सोच रहा
यह
देश जायेगी या घर ?

Leave a Reply