सागर गर्जन

गर्ज रहा है काला सागर
उठ रहीं उद्दाम लहरें
ध्वस्त तटबंध
निर्मूल जंगल झाड़ ।

पता नहीं क्या बचेगा
साबुत, सुरक्षित ।

इस अंधेरे में
बिला गया जार्जिया
बल्गारिया, रुमानिया
मंझधार में डोलती वह कश्ती ।

भयंकर है बंधे सागर की पीड़ा
छोड़ रहा धीरज
उफन रहा है काला सागर ।

Leave a Reply