ऐसा कैसे होता है

हम भी बच्चे तुम भी बच्चे
क्या हममें तुममें भेद

भेद बहुत है हममें तुममें
सुन्दर कपड़े , अच्छा खाना
बढ़िया सा स्कूल
पढ़ लिखकर तुम आगे बढ़ते
हम रोजी-रोटी में गुल

क्योंकर ऐसा होता है
ऐसा कैसे होता है
मानव-मानव सभी एक हैं
सबमें एक सा प्राण
फिर क्यों तुम इतनी मस्ती में
हम हैं लस्त-पस्त निस्प्राण

बच्चों के इन प्रश्नों-प्रतिप्रश्नों में
रेंग रहें हैं सांप

सांपों के पीछे-पीछे
दौड़-भाग करते लोगों में
छंदों जैसा कुछ भी नहीं है
किसी पंक्ति में
किसी सिरे में
कोई ताल-मेल नहीं है

हम भी बच्चे तुम भी बच्चे
फिर भी अनेक भेद-विभेद
क्योंकर ऐसा होता है
ऐसा कैसे होता है।

Leave a Reply