शब्दों की सुरक्षा

घुप्प अंधेरे में
सड़कों पर छिड़ा हो युद्ध
घमासान ।

दहक रहे हों
गली-मुहल्ले ।

दूर पहाड़ की घाटी में
तीर छिदे शिशु की पीड़ा में मिली
मां के रुदन की आवाज
शहर कंपा रही हो ।

कितना सुकून देता है
सही शब्द का चुनाव ।

ये नहीं होता तो क्या होता
सड़क, घर, पहाड़ पर
जहां भी होता
कर्म की भाषा में मरा होता ।

कितना भरोसा देता है अर्थ
शब्दों की ओट में
खरगोश सा छिप जाता

सुस्ताता
धूप भरे दिन में
निकलकर अचानक
सौंदर्य से सबको लुभाता ।

Leave a Reply