इंतज़ार – कवि विनय भारत

वो बारिश को अपना दुश्मन मान बैठे भारत

कम्बख्त हम थे

की

छतरी खोले

उनका इंतज़ार करते रहे

कवि विनय भारत