वाह री दोस्ती – कवि विनय भारत

वे बोले –

आप बहुत कम – कम बोलते हो

हमने कहा –

बोलती बंद हो गयी हमारी

जबसे आप दोस्त हुए