प्याज पर बबाल – कवि विनय भारत

मेरे मित्र के घर इन्कम टैक्स
का छापा पड गया

मैंने मित्र से पूँछा

यार
तू कंगाल गरीब आदमी

तेरे यहाँ छापा क्यूँ पड़ा

तेरे पास काहे की सम्पत्ति थी

वो बोल संपत्ति कहे की यार

बस पांच किलो प्याज थे

कवि भारत