हसीना की हँसी – कवि- विनय भारत

तेरी हंसी ने हसीना सुन

ऐसा खेल कर दिया

हमे उसी क्लास में

फिर से फेल कर दिया

विनय भारत