पल भर जवानी

मूर्त एक क्षण भंगूर
सुन्दर सुघड़ लंगूर
बिन चैन दिन रैन
उत्तेजित मन, प्यासे नैन

मुख चमकीला
चित्त हठीला
शिरोमणि यहां
राशलीला

हाड माँश की गठरी
बाहें फैलाये तगड़ी
ताड़ सी अकड़
जाड सी पकड़

उड़ने का जतन
मदहोश लगन
टूटते जमीर
फूटती तकदीर

नापाक इरादे
दिली सहजादे
साफ़ अचकन
अकड़ी गर्दन

करते मनमानी
नियत दीवानी
बहकती साँसे
पल भर जवानी

Leave a Reply