रंगत

होली का माहोल.. कुछ रंग मुझको लूटने दो.
सब चले जाते ह छोड़ के “असरार”
तुम रहो कि मेरी महफ़िल में, कि थोड़ी तो रंगत रहने दो!

Leave a Reply