पार – अपार

बहते हैं रंग
दिशाएं भी
बहती हैं,
स्मृतियाँ
बूंद -बूंद
उन्ही – सी
किन्ही अल्पविरामों के
नितांत,
पार – अपार ।

Leave a Reply