हिसाब कर लें

मोहब्‍बत में हिसाब माॅंगती हैं,आ हिसाब कर लें
कुछ पल हंसी तू मेरे साथ खराब कर लें

लौटा दूॅंगा तुझको वो सब कुछ जो तूने दिया हैं
बस एक बार तू आकर मुझसे मुलाकात कर लें

वैसे मैं पीता नहीं हूॅं कभी शराब साकी
मगर पी लूंगा गर तू इन होठों को शराब कर लें

कह‍ीं नजर ना लग जाये तुझको मेरी
तू घर से निकलने से पहले चेहरे पर नकाब कर ले

बडी बदसूरत है ये दुनिया
गर तू साथ दे तो इसे कुछ महताब कर लें

छाया है अंधेरा चारो तरफ अविनाश देखें जिधर तू
कुछ जुगनुओं को मिला कर पैदा एक नया आफताब कर ले
अविनाश कुमार

Leave a Reply