“बरात विदाई गीत”

दल साजन-साजन होई रे!
दलवा त साजयनी दुर्गा मइया,जेकर सेवक बियाहन जाई।
दलवा त साजै न डिहबाबा,,जेकर सेवक बियाहन जाई।
दल साजन-साजन होई रे!
दलवा त साजयनी समय माई,जेकर सेवक बियाहन जाई।
दलवा त साजै न ग्राम देवता,जेकर सेवक बियाहन जाई।
दल साजन-साजन होई रे!
दलवा त साजयनी काली माई,जेकर सेवक बियाहन जाई।
दलवा त साजयनी सीतला माई,जेकर सेवक बियाहन जाई।
दल साजन-साजन होई रे!
दलवा त साजै न परगहन बाबा,जेकर सेवक बियाहन जाई।
दलवा त साजै न ग्राम देवता,जेकर सेवक बियाहन जाई।
दल साजन-साजन होई रे!
नोट:-अपने घर से दूल्हा शादी में जाते हुए देव स्थानों का दर्शन करता है।

Leave a Reply