तेल के गीत(मटमंगरा)

के मोरे बोआला लाली सरसोइया!
के हो पेरावे कड़ुआ तेल।
केकरि ककहियाँ मै मंगिया संवारबों!
केकरे ही सेनुरे वियाह।
बाबा मोरे बोवेलें लाली सरसोइया!
सइयाँ पेरावें कड़ुआ तेल।
भउजी ककहिया मैं मंगिया सवरबों!
हरि जी के सेनुरे वियाह॥

Leave a Reply