पत्थरों का शहर

पत्थरों का शहर‚ पत्थरों की गली

पत्थरों की यहाँ नस्ल फूली फली

 

आप थे आदमी‚ आप हैं आदमी

बात यह भी बहूत पत्थरों को खली

 

एक शीशा न बचने दिया जायेगा

गुफ़्तगू रात भर पत्थरों में चली

 

खिलखिलाते हुए यक ब यक बुझ गई

पत्थरों के ज़रा ज़िक्र पर ही कली

 

जो कि प्यासे रहे खून के‚ मौत के

एक नदिया उन्हीं पत्थरों में पली

Leave a Reply