दीपक

ये दीपक
जो लौ जगाता
प्रकाश प्रफुलित
अन्धेरा भगाता

ये दीपक
जिसके संग होती
गर्दन हिलाती
उज्जवल ज्योति

ये दीपक
जो फड़फड़ाता
संघर्षो में भी
लड़ना सिखाता

ये दीपक
बाती ज्योति के बीच
प्रेम, आशा, द्वन्द
का प्रतीक

ये दीपक
स्वागत बखारे
कोई प्रिये जब
घर पधारे

ये दीपक
दुष्ट के घर पर
देव दॄष्टि इस
निडर पर

ये दीपक
खुद को जलाये
रौशनी के लिए
हमें जीना सिखाये

Leave a Reply