कभी सुख का समय बीता

कभी सुख का समय बीता, कभी दुख का समय गुजरा

अभी तक जैसा भी गुजरा मगर अच्छा समय गुजरा !

 

अभी कल ही तो बचपन था अभी कल ही जवानी थी

कहाँ लगता है इन आँखों से ही इतना समय गुजरा !

 

बहुत कोशिश भी की, मुट्ठी में पर कितना पकड़ पाए

हमारे सामने होकर ही यूँ सारा समय गुजरा !

 

झपकना पलकों का आँखों का सोना भी जरूरी है

हमेशा जागती आँखों से ही किसका समय गुजरा !

 

उन्हीं पेडों पे फिर से आ गए कितने नए पत्ते

उन्हीं से जैसे ही पतझार का रूठा समय गुजरा !

 

हमें भी उम्र की इस यात्रा के बाद लगता है

न जाने कैसे कामों में यहाँ अपना समय गुजरा !

Leave a Reply