आँसू । (गीत)

जा, समंदर को, लहूलुहान कर दे ।
आँसूओं से गहरी, पहचान कर ले ।

( समंदर = दुनिया )

अन्तरा-१.

तन्हा है लम्हा, गुमशुदा है दिल..!
चप्पे – चप्पे, इक दरबान धर दे ।
जा, समंदर को लहूलुहान कर दे ।

गुमशुदा = लापता ।

अन्तरा.-२

रुके, ना थमे, यही तो वक्त है..!
दम है तो, उस पर निशान कर ले ।
जा, समंदर को लहूलुहान कर दे ।

अन्तरा-३.

हँसी, न खुशी, ग़मज़दा है सांसें..!
बच्चों के नाम, मुस्कान कर दे ।
जा, समंदर को लहूलुहान कर दे ।

ग़मज़दा = दुःखी ।

अन्तरा-४.

न तेरा, न मेरा, समंदर झमेला..!
खुद को जहाँ का, मेहमान कर ले ।
जा, समंदर को लहूलुहान कर दे ।

झमेला = भीड़-भाड़ ।

Leave a Reply