ज्योति

देवेश दीक्षित

देवेश दीक्षित

ज्योति

यों तो दीपक को जलते – बुझते ,

हम सब ने देखा है ।

लेकिन उसने जो ज्ञान दिया है,

उसे हर किसी ने नहीं ।

सिर्फ किसी – किसी ने देखा है,

और जिसने भी उसे देखा है ।

वो कोई साधारण मनुष्य नहीं,

सूर्ये के तेज के समान ।

एक दिव्यात्मा है और वो दिव्यात्मा ,

और कोई नहीं हमारे ही बीच स्थित ।

एक ज्योति है जो एक शक्ति है,

एक प्रेम शक्ति एक भाईचारे कि शक्ति ।

जिसे हर मन में जगाना है,

हर रूप में फैलाना है ।

कोई तोड़ सके न इसको,

ऐसा मजबूत बनाना है ।

स्वेम को और इस देश को,

सुख समृद्ध बनाना है ।

 

 

देवेश दीक्षित

9582932268

One Response

  1. Diwakar Yadav 11/04/2014

Leave a Reply